Monthly Magzine
Wednesday 14 Nov 2018

भूख

भूख 

छोड़ो लिखना भूख, भूख

और चिल्लाना तो बिल्कुल नहीं भूख, भूख, भूख

अगर सर्वेश्वर होते

तो क्या कह पाते कि भूखा मनुष्य

सबसे सुन्दर होता है?

नहीं, बिल्कुल नहीं

खौफऩाक हो गया है भूखा व्यक्ति

बेहद खौफऩाक

क्योंकि बदल दिये है तुमने अब

भूख के मायने

हावी है तुमपर पेट के भूख की अपेक्षा

स्त्री जिस्म की भूख

इस शारीरिक भूख का पेट निरन्तर बढ़ रही है

जिसके लिए कोई सौ साल की वृद्धा हो

या तीन साल की बच्ची

कोई कैंसर पीडि़ता हो,

कोई गरीब या लाचार लड़की

और अंधकार होते ही बहन या माँ

को भी लीलने को तत्पर ये भूख

तुम चुप हो

और मुझे मालूम है इसका कारण

तुम आदि हो गये हो

बारम्बार इस भूख को

देखने के

सुनने के

तो कभी स्वयं की भूख मिटाने को

घोट लिया है इसने तुम्हारी संवेदना को

और निरस्त कर दिया है तुम्हें

तुम्हारी अपनी भूख ने  ।।।