Monthly Magzine
Wednesday 14 Nov 2018

वे तुमसे खेल रहे हैं

वे तुमसे खेल रहे हैं

 

तुम उनके मनपसंद खिलौने हो

और वे तुमसे खेल रहे हैं

 

तुम्हारा यह सोचना

कि तुम उनके लिए खतरा बन चुके हो

तुम्हारी खुशफहमी है

 

वे जानते हैं

कि तुम्हें गलतफहमियों की आदत है

जैसे वे कुत्ते बिल्लियां पालते हैं

ठीक वैसे ही तुम्हें

 

उन्हें पता है

कि सिद्धांत बघारना तुम्हारी हॉबी है

तुम्हें क्रांति व्रान्ति जैसी चीजों की लत रहती है

तुम बीड़ी पीते हो

और सोचते हो...

तुम बीड़ी पी पीकर सोचते रहते हो

और अंत में

उनके खिलाफ एक कविता लिखते हो

वे

कुछ भी सोचते ओचते नहीं

हमेशा की तरह तुम्हारी तमाम कविताएं

अपने मन बहलावे के लिए खरीद लेते हैं

उसे अपने प्रेम-पत्रों पर चिपकाते हैं

बच्चों के लिए कागज की नाव बनाते हैं

पतंग बनाकर उड़ाते हैं

पेंच लड़ाते हैं

और चाहते हैं कि तुम अपने आप को

इस दुनिया से अलग हटकर समझो

और अपनी सो कॉल्ड श्रेष्ठता के गटर में

कहीं डूब मरो!

--------

तुम्हारी हंसी

 

तुम उन्हीं की सभा में बैठे हंस रहे हो

जिनके खिलाफ कल रात

तुमने अपनी कविता लिखी थी

 

हंसना सेहत के लिए अच्छा होता है

लेकिन तुम्हें जानना चाहिए

कि यहां इस सभा में

तुम अपनी कविता के खिलाफ हंस रहे हो

तुम्हें समझना चाहिए

कि विशुद्ध हंसी जैसी कोई चीज नहीं होती

हर हंसी का अपना अलग चेहरा होता है

अपना अलग चरित्र

हर हंसी का अपनी अलग पॉलिटिक्स होती है

 

यह जो तुम उनके साथ ही ही कर रहे हो

यह जो तुम उनके साथ हें हें कर रहे हो

तुम जो कभी हा हा

तो कभी हो हो कर रहे हो

असल में तुम

अपनी लंगोट उतारने की तैयारी कर रहे हो

और दाना चुग रहे हो

 

तुम्हें मान लेना चाहिए

कि इस तरह तुम

दरअसल अपने ही खिलाफ हंस रहे हो

दोस्त, तुम फंस रहे हो!

---

तुम उनके खिलाफ नहीं हो

 

तुम उनके जैसा बनना चाहते हो

तुम वह होना चाहते हो

जो वे हैं

तुम उनके खिलाफ नहीं हो

तुम्हारा विद्रोह

तुम्हारी सफलता की सीढ़ी है

तुम्हारे सिद्धांत

तुम्हारे हाथ की बीड़ी है

एक खत्म होती है

और तुम दूसरी सुलगा लेते हो

 

तुम एकान्त में उन्हीं की तरह सोचते हो

तुम आइने में खुद को उन्हीं की तरह देखते हो

और तो और तुम उन्हीं की तरह हंसते हो

उन्हीं की तरह खांसते हो

उन्हीं तरह छींकते हो

तुम्हारी देह-गन्ध भी

बिलकुल उन्हीं के जैसी है

 

तुम्हारे आने पर

और तुम्हारे जाने के बाद देर तक

सबको लगता रहता है

कि घर के किसी छिपे कोने में

कोई चूहा मर गया है।