Monthly Magzine
Sunday 23 Apr 2017

व्यंग्य

  • स्वर्ग में एक प्रस्ताव आया कि जो भी मनुष्य योनि में वापस जाना चाहता है, जा सकता है लेकिन उसको उसकी मातृभूमि नहीं मिलेगी।
  • May  2013   ( अंक164 )
    By : शशिकांत सिंह \'शशि\'     View in Text Format    |     PDF Format
  • \'\'यदि पार्टी के किसी बड़े नेता का तुम्हारे ऊपर वरदहस्त नहीं है तो जीवन भर तुम एक कार्यकर्ता ही बने रहोगे। पार्टी फण्ड में जमा करने के लिए मोटी रकम तुम्हारे पास है नहीं।
  • June  2013   ( अंक165 )
    By : अश्विनी कुमार दुबे     View in Text Format    |     PDF Format
  • आम आदमी की सुबह
  • July  2013   ( अंक166 )
    By : अन्य     View in Text Format    |     PDF Format
  • हा ! वसंत !
  • March  2014   ( अंक174 )
    By : अन्य     View in Text Format    |     PDF Format
  • भागीरथी वटी
  • July  2014   ( अंक178 )
    By : केवल गोस्वामी     View in Text Format    |     PDF Format
  • न सफर सुहाना, न मौसम हंसी
  • September  2014   ( अंक180 )
    By : यश मालवीय     View in Text Format    |     PDF Format
  • प्रजातंत्र के कुत्ते
  • October  2014   ( अंक181 )
    By : केवल गोस्वामी     View in Text Format    |     PDF Format
  • नीरो की बांसुरी
  • December  2014   ( अंक183 )
    By : यश मालवीय     View in Text Format    |     PDF Format
  • भ्रष्टाचार-हेल्प लाइन
  • January  2015   ( अंक184 )
    By : प्रभाकर चौबे     View in Text Format    |     PDF Format
  • मजबूरी का शोध
  • March  2015   ( अंक186 )
    By : सुनील साव     View in Text Format    |     PDF Format