Monthly Magzine
Saturday 07 Dec 2019

Current Issue

रोक नहीं सकता आँसू जो

फूट पड़े क्रन्दन से

बाँध नहीं सकता शब्दों को

शब्दों के बन्धन से

हैं झर रहे पत्ते

विचारों की टहनियों से

सूखकर,

कुछ हवाओं की हलकी

थपेड़ों से

कुछ ओस की बूँदों से

रोक नहीं पा रही हैं

शाख से

दीख रही हैं

गैर,

Read More

Previous Issues